What is SEO, full form, meaning, SEO tools, SEO tips, and how it works

Rate this post

क्या आप SEO के बारे में जानना चाहते हैं? इससे पहले कि मैं आपको बताऊं कि यह कैसे काम करता है और आपको अपने ब्लॉग का SEO सही तरीके से कैसे करना हैं?

आइए पहले SEO की full form जानते है, और फिर हम यह पता लगाएंगे की SEO किस तरह से काम करता है।

SEO क्या है? (Full form, Tools, Tips, How it works)

SEO की full form search engine optimization है। दोस्तों seo का काम आपकी website के content को google मे हाई rank दिलवाने मे मदद करना है।

SEO और paid advertising के बीच बहुत ही बड़ा अंतर यह है कि SEO में हम organic ranking पर काम करते है, जिसका मतलब यह है की हम google मे हाई रैंक प्रापत करने के लिए pay नहीं करते हैं।

इसे थोड़ा आसानी से समझे तो, search engine optimization का अर्थ है आपकी वेबसाइट का कोई भी post लेना और इसे Optimize करना ताकि जब कोई भी google या किसी भी search engine पर आपके पोस्ट से रिलेटेड सर्च करे तो आपके पोस्ट search engine मे बिलकुल टॉप पे दिखाई दे।

इसे इस तरह भी समजे। जब कोई व्यक्ति Google में “paneer recipes” टाइप करता है, तो वह इसे बनाने की विधि, सामग्री और निर्देशों की तलाश में रहता है। यदि आपने paneer बनाने के बारे लिखा है, तो आप चाहते हैं कि लोग आपका यह आर्टिकल खोजें।

किसी को भी इसे खोजने के लिए, आपको paneer recipes मे दूसरी site से ऊपर search engine मे rank करने की जरुरत होगी। यह कभी भी आपके लिए आसान नहीं होगा लेकिन इसी को तो SEO मार्केटिंग बोला जाता है।

आइए इसे और आगे अच्छी तरह से समजते है: आज के टाइम मे लोग कुछ भी online search करने के लिए google जैसे search engine का इस्तमाल सबसे जायदा करते है ताकि वह आसानी से कुछ भी online search कर सके। बात करे तो 80 percent सर्च google search engine से ही शुरू होते है।

यह जानने के लिए की आप अपनी website के किसी भी पोस्ट को search engine मे कैसे उच्च रैंक पर ला सकते है। इससे पहले आपको यह समझना होगा की सर्च काम कैसे करती है। 

इस आर्टिकल को लिखने का मक़सद आपको सिर्फ सर्च इंजन के बारे मे गाइड करना है। ताकि आप अपनी वेबसाइट के पोस्ट को सर्च इंजन के अनुकूल बना सके और आपकी पोस्ट सर्च इंजन मे रैंक कर सके।

Also read:- Captcha meaning in hindi | Captcha code क्या है

SEO: Black Hat and White Hat

जब SEO की बात आती है, तो जल्दी या तीव्र गति से लाभ लेने को black hat seo कहते है। जो लोग black hat Seo करते हैं, वे अपनी website को असानी और जल्दी से search engine मे rank कराने के लिए कीवर्ड स्टफिंग और लिंक स्क्रैपिंग का उपयोग करते हैं। यह कुछ समय के लिए काम कर सकता है और आपको आपकी website पर कुछ ट्रैफ़िक दिला सकता है, लेकिन कुछ समय बाद, Google आपकी website को punished कर सकता है और आपकी website को blacklist भी कर सकता है। ताकि आपकी website कभी भी rank न करे google search engine मे।

दूसरी ओर, white hat seo एक अच्छा तरीका है SEO करने और अपनी website के पोस्ट को rank करने का। यदि आप इस तरह से SEO करते हैं, तो आप लोगो का ध्यान अपनी वेबसाइट की और केंद्रित करते है।

आप अपनी साइट मे visitor को अच्छा और यूनिक कंटेंट प्रदान करेंगे और search engine के नियमों के अनुसार ही अपना content लिखेगे ताकि आपकी वेबसाइट रैंक कर सके।

इसी टॉपिक पर मे कुछ और बाते आपको बताना चाहता हूँ।

Duplicate content: जब आप अपनी website को rank करने का लिए किसी keyword का इस्तमाल बार बार करते है और उसी पर बार बार पोस्ट लिखते है। ताकि आपकी वेबसाइट रैंक कर सके तो वो duplicate content हो जाता है। और गूगल को पता चल जाता है की आप इस वेबसाइट को इस keyword पर rank कराना चाहता है। इसके लिए गूगल आपकी वेबसाइट को पेनलिटी भी लगा सकता है। और फिर आपकी वेबसाइट रैंक नहीं करेगी।

Also read:- Blogger post के permalink या url से date और .html कैसे हटाए?

Invisible text and keyword stuffing: कुछ वर्ष पहले black hat seo का इस्तमाल किया जाता था और आर्टिकल के नीचे कुछ high quality keyword का इस्तमाल करते थे। जिन keywords का उस article से कोई सम्बन्ध नहीं होता थ। कीवर्ड का रंग background के रंग जैसा ही दे दिया जाता था ताकि कीवर्ड दिखाई न दे। इस ट्रिक का इस्तमाल न करे वर्ना गूगल आपको ब्लैकलिस्ट मे डाल देग। 

Cloaking and redirecting: अब redirect की बात करे तो इसके भी दो तरीके है। एक सही और दूसरा गलत तरीका होता है। अगर आप काफी सारे high quality वाले domain खरीदकर उन सभी domains को अपनी website पर redirect करते है तो यह एक गलत तरीका है। आपको ऐसा नहीं करना है। 

Poor linking: आपको बहुत ऐसी websites मिल जाएगी जो आपको 1 दिन मे 20000 links देने का वादा करती है  लेकिन यह लिंक बनाने का सही तरीका नहीं है। लिंक प्रापत करने का सही तरीका दूसरी वेब्सीटेस पर गेस्ट पोस्ट करे और लिंक बनाए जिन वेब्सीटेस का अच्छा रैंक है और अच्छी ट्रैफिक है।

SEO Marketing Basics

अब हम आपको बताने जा रहे है की SEO marketing कैसे करें। लेकिन SEO कोई डिश नहीं है जो आज बनाई ओर अभी खा ली। SEO के लिए बहुत अधिक समय और कार्य करने की आवकश्यता होती है। जिसका परिणाम आपको धीरे धीरे मिलता है। कार्य करके ओर समय देकर ही आप success प्रापत कर सकते है।

Content

दोस्तों आपने अंग्रेजी का यह शब्द तो सुना ही होगा की ‘content is king’ मतलब content राजा है। जो बिलकुल सही है अगर आप अच्छा content लिखते है जो यूजर फ्रेंडली है और अच्छा है तो आपको हमेशा ही सक्सेस मिलेगी। क्योकि गूगल उसी कंटेंट को google search engine मे top पे दिखता है। जो unique और यूजर फ्रेंडली है। अगर आपका कंटेंट unique और यूजर फ्रेंडली नहीं है तो आपकी पोस्ट रैंक नहीं करती है।

इसका मतलब यह है की बढ़िया सो करने के साथ साथ आपको बढ़िए कंटेंट भी लिखना है।

तो दोस्तों अब आपको बहुत सारा काम करना है। क्योकि अच्छा कार्य करने से ही आपको अच्छा परिणाम मिलेगा। एक अच्छा SEO करने का कोई भी लाभ नहीं होगा अगर आपके पास good ओर unique content नहीं है।

Also Read:- WordPress पर webp format images कैसे अपलोड करें? without plugin

Content Element

दोस्तों बहुत से ऐसा सुझाव है जिससे आप एक उच्च गुणवत्ता वाला article लिख सकते है; लेकिन मे आपको यहां कुछ सबसे महत्वपूर्ण सुझाव ही दुगा:

Quality

पहले के समय मे आप कुछ अच्छे कीवर्ड के साथ कुछ भी कंटेंट पोस्ट करके अच्छा rank पा सकते थे।आप अच्छा कंटेंट भी पोस्ट कर रहे थे क्योकि इतना कम्पटीशन नहीं था ओर वो पोस्ट रैंक भी कर जाता था। आज कल काफी लोक ब्लॉग्गिंग कर रहे है।वह लोग अपने ब्लॉग मे बहुत ही unique कंटेंट डाल रहे है ताकि उनका ब्लॉग google मे रैंक करे और वह हो भी रहे है।

पर दोस्तों बढ़िया ओर unique content बनाना आसान काम नहीं है। लेकिन यह उतना भी मुश्किल नहीं है। आप इंटरनेट पर search करके आईडिया ले सकते है कि किस तरह का content आपको बनाना है। दोस्तों यह बहुत ही आसान काम है लेकिन इसमे समय लगता है। मान लीजिए आपको health पर टॉपिक लिखना है तो आपको हेल्थ के बारे मे google पर search करके वहाँ से आईडिया लेके आप आसानी से लिख सकते है।

अंत मे मै आपको बोलना चाहता हूँ कि आपकी पोस्ट को पढ़ने वाले को उसकी problem का solution मिलना चाहिए अगर आपके कंटेंट मे पढ़ने वाले को उसका solution नहीं मिलेगा तो वह किसी और पोस्ट पर क्लीक कर देगा।

इरादा

Google व्यूअर के इरादे पर बहुत ही नजर रखता है। हम  गूगल मे क्या सर्च करना चाहते है। जब भी हम सर्च बार मे कुछ टाइप करते है तो गूगल समझना चाहता है कि हम क्या सर्च कर रहे है।

क्या हम कुछ जानना चाहते हैं?

क्या हम कुछ खरीदने की कोशिश कर रहे हैं?

Freshness

गूगल मे पोस्ट करने से रैंकिंग मे मदद मिलती है। आपको हमेशा ही गूगल पर यूनिक और नई पोस्ट लिखते रहना चाहिए। साथ ही साथ आपको अपनी पुराणी पोस्ट के ब्रोकन लिंक को भी ठीक करना चाहिए ओर पुरानी पोस्ट के कंटेंट को भी अपडेट करते रहना चाहिए। ताकि आपकी पुरानी पोस्ट्स भी गूगल मे रैंक करती रहे।

Tips to create quality content

यहाँ पर मे आपको क्वालिटी कंटेंट लिखने के टिप्स बताने जा रहा हूँ जिससे आपके कंटेंट को पढ़ने वाला लिखे करेगा ओर पोस्ट गूगल मे भी रैंक करेगा:

Understand user intent (उपयोगकर्ता के इरादे को समझें): आपको यह जानना बहुत ही जरूरी है की आपके आर्टिकल को पढ़ने वाला क्या हासिल करना चाहता है|

Develop a customer avatar (ग्राहक अवतार विकसित करें): आपको अच्छा आर्टिकल लिखने के लिए यह जानना भी जरूरी है आपके आर्टिकल को पढ़ने वाला कौन है। आपके पाठक को क्या पसंद है और क्या नापसंद है? वे वहाँ क्यों हैं?

Break up the text (टेक्स्ट को तोड़ें):लोगो को आर्कषित करने के लिए आपको बहुत सारा टेक्स्ट लिखना ही जरूरी नहीं है बल्कि आपको बहुत सारे हैडर देने होता है और कुश इमेजिस भी अपने आर्टिकल मे डालनी होती है। 

Make it actionable: अपने आर्टिकल को ऐसे लिखे ताकि आपके आर्टिकल को अंत तक पढ़ने वाले को जो जानकारी चाहिए वो उसे मिल जा। पढ़ने वाले को निराशा न हो। 

Research on keywords and selection

हमने अब तक कीवर्ड रिसर्च पर ही बात की है, जो यह निर्धारित करता है आप अपनी वेबसइट या ब्रांड को ऑनलाइन कैसे प्रमोट करते है।

कीवर्ड रिसर्च करने के वैसे तो कई अलग अलग कारण है लेकिन इनमे से दो कारण प्रमुख है गूगल पर रैंक करना और यूनिक कंटेंट लिखना, कीवर्ड से आपको यह पता चल जाता है कि लोग इंटरनेट पर क्या खोज रहे है, लोगो को किस बारे मे जानकारी प्रापत करनी है। 

Keyword selection elements

आपको बहुत से टूल ऑनलाइन मिल जायगे जिससे आप keyword की research अच्छी तरह से कर सकते है keyword research के लिए आप गूगल कि ही वेबसाइट trend.google का इस्तमाल कर सकते है और भी बहुत से ऐसा टूल्स ऑनलाइन मौजूद है जिनका आप इस्तेमाल करके treading keywords का पता लगा सकते है। आपको अच्छी ट्रैफिक प्रापत करने के लिए एक ऐसे keyword को चुनना होगा जिसका बारे मे लोग जानना चाहते हो या इंटरनेट पर search कर रहे हो।

Choose the Right Keywords

आपको ऐसे keywords के चयन करना होगा जिसमे competition कम हो और लोग उस कीवर्ड को ज्यादा खोजते हो। ताकि आप के पोस्ट रैंक कर सके। तो दोस्तों सही और unique keyword ही सफलता का परिणाम है।

Competition Analysis

तो दोस्तों Competition एनालिसिस क्या है इसके बारे मे अब हम बात करेगे।आपको article लिखने से पहले ही सही कीवर्ड का चयन करना होगा। जो भी कीवर्ड का आप चयन करे वो आपका article से मेल जोल खाता हो। आपको बिलकुल भी किसी गलत keyword का चयन नहीं करना है।

HTML SEO

आपकी वेबसाइट पर html seo करना बहुत महतवपूर्ण कार्य है। उचित टैग, हेडर और विवरण के बिना, Google को यह पता लगाने में कठिनाई होगी कि आपकी सामग्री किस बारे में है और इसे प्रतिस्पर्धा से ऊपर क्यों रैंक करना चाहिए।

आपको अपने article मे उचित tags, header और article के बारे मे विवरण देना बहुत ही जरुरी है।ताकि google को पता चल सके की आपका आर्टिकल किस बारे मे है ओर आपका article गूगल मे रैंक हो सके।

जब लोग html seo जैसे शब्द को पड़ते है तो वो डरने लग जाते है कि html seo का हिस्सा है लकिन दोस्तों आपको डरने कि जरुरत नहीं है। सिर्फ आपको html coding को समझना होगा। html से seo करना copy और paste करने जैसे आसान है।

HTML के तत्व

तो आइए अब हम html के कुश तत्वों के बारे मे जानकारी प्रपात करते है कि किस तरह से आपको आसानी से html seo करना है।

Title tags

एक बात जो बहुत से लोग इंटरनेट पर आपको भ्रमित करते है वे है title tag या h1 टैग ये दोनों tags अलग अलग है title tag वह है जब हम गूगल मे कुछ search करते है तो सबसे ऊपर आता है। उदहारण के लिए आप निचा दी गई इमेज मे देख सकते है।

seo
seo

Title tag सर्च करने पर सबसे ऊपर दिखाई देता है आप ऊपर image मे देख सकते है। Google मे सर्च करने पर आपको title tag ब्लू रंग मे दिखाई देता है जो बिलकुल अलग होता है।आप अपने title टैग मे प्रमुख keyword का इस्तेमाल कर सकते है ओर title को इस तरह का आकर्षक बनाए ताकि सर्च करने वाला उस पर क्लिक करना चाहे।

Meta Description

Meta Description वह है जो आपको title के निचले भाग मे दिखाई देता है। इसमे आपको यह बताना होता है कि आपका article किस बारे मे है। इसमे आपको अपने टॉप keywords का इस्तमाल करके सर्च करने वाले को बताना होता है कि आपने इस आर्टिकल मे क्या लिखा है। Meta Description मे आपको सिर्फ 160 words का ही इस्तमाल करना होता है। इससे ज्यादा words का आप इस्तमाल नहीं कर सकते।

Meta Description
What is Meta Description

Subheadings

Subheading को हम H1 भी बोलते है। यह आपके article मे सबसे ऊपर प्रदर्शित होता है। यह आपको सिर्फ शब्दों का एक जोड़ लग सकता है लेकिन यह बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योकि यह आपका h1 है।

Subheading गूगल को बताता है कि आपका article किस बारे मे है। जब कोई व्यक्ति आपके article को पढ़ने के लिए आता है तो Subheading आपके article को आकर्षक बना देती है।

Alt text

Alt text का उपयोग हम article मे image को परसुसत करने के लिए करते है।लेकिन कुछ लोग Alt  text का उपयोग नहीं करते है । Alt text का image मे उपयोग करना बहुत ही जरुरी है क्योकि अगर आप alt text का उपयोग करते है तो आपकी image भी google search engine मे रैंक करती है इससे image को सर्च करके भी लोग आपकी website पर आ सकते है।

URL Slug

नीचे दी गई image को dakh ke आपको पता तो लग ही गया होगा की url slug क्या होता है।इसे हम permalink भी बोल सकते है। आपको url slug मे important keyword को यूज़ करना होता है। क्योकि article रैंक को लिए ये भी बहुत ही महत्वपूर्ण एरिया है।

URL Slug
URL Slug

Tips for Correcting HTML Corrections

जब आप अपनी website के html मे सुधार करते है तो निम्नलिखित बातो का ध्यान जरूर रखे:

Use Ahrefs tool: अब जो बात मै आपको बताने जा रहा हूँ वो बहुत ही महत्वपूर्ण है। Ahrefs एक paid tool है पर ये html मे सुधार करने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह tool आपको बताता है की आपकी website मे कितने brocken links है। किस पोस्ट का meta tag गायब है। ahrefs tool से आप और भी काफी मदद ले सकते है।

what the competition is doing: आपको अपने competition पर हमेशा नजर रखनी चाहिए, आपको हमेशा ही कम्पटीशन को देखना चाहिए की वह क्या कर रहा है इससे आपको पता चल जाएगा की आपको article rank करने के लिए कोनसा keyword और meta tag यूज़ करने है

Never stuff keywords: अपने article के meta tags मे कभी भी आपको एक जैसे keywords का इस्तमाल नहीं करना है इसको गूगल आसानी से जान लेगा और आपको penalty भी लगा सकता है जिससे आपका article रैंक नहीं करेगा।

Don’t forget H2, H3, and H4 headers: इस article मे हमने h1 header के बारे मे तो बात की लेकिन आपको h2, h3, ओर h4 headers के बारे मे नहीं भूलना ये बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योकि इससे गूगल को आपके article के बारे मे पता चलता ही की आपका article किस विषय पर केंद्रित है।

Website architecture

एक अच्छा साइट architecture  बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योकि अगर आपकी website के architecture  अच्छा है तो आपकी वेबसाइट तेजी से लोड होगी और आपके यूजर को प्रॉब्लम नहीं होगी। साइट को हमेशा ही mobile friendly बनाए क्योकि आज कल 70 percent लोग browsing के लिए मोबाइल का ही यूज़ करते है। यह सब आपकी वेबसाइट के seo के लिए महत्वपूर्ण है।

Elements of Site Architecture

Easy to Crawl

crawl का मतलब यह है की google आपकी साइट को crawl करता है और यह पता लगाने की कोशिश करता है की ये क्या है। गूगल आपके साइट के कीवर्ड्स की पहचान करता है। आपकी साइट के keywords से ही पता लगता है कि आपकी साइट को कहाँ रैंक करवाना है।

आपको हमेशा unique पोस्ट ही लिखनी चाहिए गूगल आपकी हर पोस्ट तक पहुता है ओर उसे सर्च engine मे index करता है।

आप अपनी website के sitemap जरूर बनाए यदि आप wordpress पर है तो आप plugin के इस्तेमाल से sitemap बना सकते है लेकिन अगर आप लोग blogger.com के इस्तमाल करते है तो आप sitemap.xtml से ब्लॉगर का sitemap बना सकते है। उदहारण के लिए : हमारी वेबसाइट www.inhindiblog.com है तो ब्लॉगर मे sitemap होगा www.inhindiblog.com/sitemap.xml

आपको हमेशा ध्यान रखना होगा कि गूगल को आपकी वेबसाइट को crawl करने मे कोई problem  न हो।अगर google को आपकी साइट को cawl करने मे कोई भी प्रॉब्लम होगी तो आपकी साइट rank नहीं कर पाएगी क्योकि गूगल का AI आपके द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे keywords पर ध्यान नहीं देगा।

Duplicate content

डुप्लीकेट कंटेंट को लेकर लोगो के मन मे बहुत से doubt है। लेकिन मै आपको बता देना चाहता हूँ कि डुप्लीकेट कंटेंट आपकी रैंकिंग को कोई नुकसान नहीं पहुंचाता है। बहुत से लोग यह मान लेते है कि वेबसाइट पर unique content ही होना चाहिए, लेकिन यह बिलकुल भी सही नहीं है। क्योकि duplicate content के लिए कोई भी search engine आपकी वेबसाइट के rank को नुकसान नहीं पहुँचता है। लेकिन डुप्लीकेट कंटेंट का आपको नुकसान भी होता है क्योंकि आपको google adsence का अप्रूवल भी नहीं मिलता है।

Mobile Friendly

हम पहले भी इस बारे मे बात कर चुके है। आपकी वेबसाइट mobile friendly होना बहुत ही जरुरी है जिससे गूगल आपकी वेबसाइट को आसानी से crawl कर सके। यदि आप अपने Google Search Console को खोलते है तो आपको वहा से बहुत सी जानकारी प्रापत हो जाएगी आपकी वेबसाइट का बारे मे और आपको पता चल जाएगा कि गूगल आपकी साइट के बारे मे क्या सोचता है।

Page speed

page  speed का बारे मे हम पहले भी बात कर चुके है। आपकी website को rank करने के लिए page speed का फ़ास्ट होना बहुत ही महत्वपूर्ण है। क्योकि अगर आपकी website की page speed कम होगी तो आपकी साइट लोड होना मे टाइम लगाएगी।तो google आपकी website की रैंक नहीं करेगा।जिसका असर यह होगा कि आप अपना कॉम्पिटिटर के सामने नहीं टिक पायगे।google search console मे जाकर आप अपनी साइट कि स्पीड आसानी से चेक कर सकता है। आजकल बहुत सी ऐसी website है जहाँ पर आप अपनी website कि स्पीड चेक कर सकते है।

HTTPS and SSL Certification

HTTPS और SSL certification website के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह आपकी website को सुरक्षा प्रधान करते है। जो भी visitor आपकी वेबसाइट मे आता है उसे इसी https और ssl certification से पता चलता है कि आपकी वेबसाइट सुरक्षित है या नहीं। इन certification को अपनी website पर सेट करना बहुत ही आसान काम है।अगर आप https और ssl certificate का इस्तमाल नहीं करते है तो गूगल आपकी website को रैंक नहीं करेगा।

Elements of Trust on Site

Bounce Rate

bounce rate किसे बोला जाता है मान लीजिये आपकी साइट पर कोई visitor आया ओर कुछ ही second मे चला गया। उसे आपकी साइट मे bounce रेट मान लिया जाता है।

वेबसाइट पर अच्छा content अच्छी loding स्पीड, अच्छा visitor आपके वेबसाइट के bounce rate को कम कर सकता है।क्योंकि सही पाठक आपकी website पर समय बिताएगा अगर आपके वेबसाइट पर अच्छा content होगा website की स्पीड अच्छी होगी।

website के article मे वीडियो लगा कर भी आप bounce rate को कम कर सकते है। इसके इलावा आपको अपने content मे visitor की प्रॉब्लम को भी solve करना होगा। ताकि visitor आपके साइट पर समय बिताए जो bounce rate कम करने मे मदत करता है।

Domain Age

आपकी साइट पर domain age का भी बहुत ही असर पड़ता है। अगर आपकी वेबसाइट लगातार article पोस्ट कर रही है तो सर्च इंजन आपकी साइट पर विश्वास जीतता है।जिससे आपकी वेबसाइट नई website से ऊपर रैंक करती है।

Tips to built more trust

Be patient: दोस्तों आपको हमेशा ही धैर्य रखना होगा ओर आपको साइट मे regular article पोस्ट करते रहना होगा ओर विश्वास करने होगा की आपके article को गूगल जल्द index करेगा। अगर आपके पोस्ट गूगल मे इंडेक्स नहीं हो रहे तो आपको अपनी साइट मे कुछ बदलाव करके google से आपके पोस्ट इंडेक्स करने का अनुरोध करने होगा।

Understand intent: जब कोई सर्च इंजन मे कुछ खोजता है वह किसी समस्या का समाधान चाहता है। आपको यह समझना होगा की आपकी साइट पर विजिट करने वाला क्या चाहता है न कि आप क्या चाहता है ये बात SEO के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। अगर आप विजिटर को उसके सवाल के उत्तर अपने article मे दे देता है हो विजिटर आपके article को पड़ेगा वर्ना वह आगे किसी ओर साइट पर चला जाएगा।

Give them what they want: दोस्तों आपको यह सुनश्चित करना होगा कि जो भी आपकी साइट पर आए उसे जल्दी से जल्दी उसका उत्तर मिल जाए जो वो चाहता है क्योकि कोई भी article को पूरा पड़ना नहीं चाहता है।वह सिर्फ अपने प्रशन का उत्तर ढूंढ़ता है। अगर आप जल्दी से उत्तर दे देता है तो आपकी वेबसाइट का bounce rate भी कम होगा।

Quality link

Quality link को लेकर लोगो का मन मे कई अलग अलग myths है कि कैसा backlinks आपकी वेबसाइट को उच्च रैंक दिला सकते है और आपको अपनी website का लिंक कितने बनाने चाहिए।तो फ्रेंड्स मे आपको बताना चाहता हूँ कि आपको बहुत सारे backlink बनाने कि बजाए quality backlinks पर धयान देना चाहिए अच्छा बैकलिंक ही आपकी वेबसाइट को रैंक दिला सकता है।

Link बनाना ही सबकुछ नहीं होता आपको एक हाई रैंक ओर हाई traffic वाली website पर लिंक बनाना होता है। अब आप सोच रहे होंगे कि बैकलिंक कैसे बनाए तो इसका सबसे अच्छा उत्तर है कि आप दुसरो की website पर quest post लिखे। इस तरह बैकलिंक बनाने मे आपको समय तो लगता है लेकिन आपको सफलता भी अवश्य ही मिलती है।

Most search SEO Marketing questions

SEO को काम करने में कितना समय लगता है?

ये इंटरनेट पर पूछे जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण सवालों मे से एक है SEO मे आप कभी भी ये न सोचे कि आप इसमे आसानी से और जल्दी से सफलता प्रापत कर सकते है।आपको SEO मे सफलता प्रापत करने के लिए कम से कम 1 वर्ष का समय लग जाता है।

मैं Google पर तेजी से कैसे रैंक कर सकता हूँ?

दोस्तों ऐसा कोई भी तरीका नहीं है जो आपको google मे तेजी से rank करा सके। गूगल मे तेजी से रैंक करने के लिए धैर्य रखना होंगे और अपनी वेबसाइट का लिंक बनाते रहना होगा quality content लिखना होगा और पुराने content को अपडेट करते रहना होगा। तभी आपको सफलता मिल सकती है।

SEO Conclusion:

दोस्तो मुझे उम्मीद है कि आपको इस article से काफी कुछ सीखने को मिला होगा जो आप के बहुत ही काम आएगा। SEO करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि seo करने का कोई shortcut नहीं है।आपको अपनी वेबसाइट पर लगातार और सही तरीके से काम करना होगा तभी आपको सफलता मिल सकती है।

दोस्तो अंत मे मै आपसे जानना चाहता हूँ कि आप किस तरह के seo को महत्वपूर्ण मानते है और किस तरह से अपनी website के seo करते है। अगर आप का कोई सवाल या उत्तर हो तो comment बॉक्स मै पूछ सकते है।

Kuljinder Singh जो कि इस website का owner है haryana में एक छोटे से विलेज gledwa से है जो kurukshetra का पास पड़ता है। लाइफ मे कुछ कर गुजरने कि चाहत लेकर 2020 मे reliance jio कि job छोड़कर Blogging को ही अपना carrier बनाया।  Read More Click Here

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!
Copy link
Powered by Social Snap