IP Address क्या है IP Address Full Form

IP address: अगर आप internet का उपयोग कर रहे हैं, तो आप अपने कंप्यूटर को assigned एक number का उपयोग कर रहे हैं, जिसे IP address कहा जाता है। इस number का उपयोग internet द्वारा आपके devices पर information भेजने के लिए किया जाता है। अपने IP address को जानना महत्वपूर्ण है ताकि आप कनेक्शन समस्याओं का निवारण कर सकें और नेटवर्क पर उपयोग के लिए devices को configure कर सकें। 

IP पते का सबसे सामान्य प्रकार IPv4 address है। यह एक 32-bit number है जिसे dotted decimal notation में व्यक्त किया जाता है, जैसे: 192.168.1.1। इस उदाहरण में चार संख्याएँ निम्नलिखित का प्रतिनिधित्व करती हैं:

First octet – 192 (यह संख्या 192.0.0.0 से 223.255.255.255 तक addresses की श्रेणी को represents करती है) 

Second octet – 168 (यह संख्या 168.0.0.0 से 191.255.255. तक addresses की श्रेणी को represents करती है।

Hello Google Kaise Ho

IP Address क्या है? (What is an IP Address)

IP Address (Internet Protocol address) एक unique identifier है जो Internet Protocol का उपयोग कर computer network में भाग लेने वाले उपकरणों को assigned किया गया है।

IP Address binary numbers हैं, लेकिन वे आम तौर पर decimal form में व्यक्त किए जाते हैं जैसे ( IPv4) या hexadecimal form (IPv6) जोकि human readability के लिए व्यक्त किए जाते हैं। एक IP Address की भूमिका network पर एक उपकरण की पहचान करना है ताकि डेटा को इसके और अन्य उपकरणों के बीच रूट किया जा सके। 

The Internet Protocol (IP) data packets को पूरे इंटरनेट पर रूट करने के लिए काम में आता है। इसमें तीन मुख्य भाग होते हैं: IP address, Subnet mask, और default gateway।

Traffic Increase करने के लिए Blog Promotion कैसे करें

इंटरनेट से जुड़े प्रत्येक devices का अपना unique IP address होता है। किसी डिवाइस का IP एड्रेस इंटरनेट पर उसकी पहचान करने का सबसे आम तरीका है। एक IP address एक फोन नंबर की तरह होता है। यह पहचानता है कि एक उपकरण कहाँ स्थित है और इसका कार्य क्या है।

यदि किसी कंप्यूटर में एक से अधिक IP address हैं, तो उसे subnet कहा जाता है। एक subnet एक IP address का हिस्सा है, जो उस नेटवर्क सेगमेंट की पहचान करता है जहां एक डिवाइस है और कौन से होस्ट इससे जुड़े होते हैं। एक सबनेट के भीतर एक कंप्यूटर को एक अद्वितीय IP address निर्दिष्ट करना संभव है।

IP Address Full Form

IP addresses इंटरनेट से जुड़े उपकरणों के लिए unique identifiers हैं। इंटरनेट से जुड़े प्रत्येक उपकरण का एक unique IP एड्रेस होता है। IP Address की Full Form “Internet Protocol Address.” है। एक IP एड्रेस एक 32-bit number है जो 4 octets में विभाजित है, प्रत्येक 8 bits का प्रतिनिधित्व करता है।

आईपी ​​एड्रेस का उपयोग क्या है?

जब अधिकांश लोग IP address के बारे में सोचते हैं, तो वे इंटरनेट पर किसी particular computer की पहचान करने के लिए उपयोग किए गए addresses के बारे में सोचते हैं। लेकिन IP address के कई अन्य उपयोग भी हैं। 

उदाहरण के लिए, उनका उपयोग किसी Device की location को ट्रैक करने या किसी वेबसाइट के owner की पहचान करने के लिए किया जा सकता है। आईपी एड्रेस उपयोग security purposes के लिए भी किया जा सकता है, जैसे कि किसी नेटवर्क पर unauthorized पहुंच को रोकने के लिए।

100+ Top Best Hindi Blog और Best Hindi Blogger कौन है in India?

subnet क्या है

अगर किसी बड़े नेटवर्क को छोटे नेटवर्क में डिवाइड कर दिया जाए तो उसे subnet कहा जाता है। उदाहरण के लिए, मान लें आप जहां काम करते हैं वहां एक नेटवर्क का कनेक्शन है और अगर उस नेटवर्क के कनेक्शन को हम हर कंप्यूटर पर अलग-अलग बांट लेते हैं तो उसे subnet masking  कहते है।

एक Subnet Mask वह संख्या है जिसका उपयोग किसी नेटवर्क के उस हिस्से की पहचान करने के लिए किया जाता है जो किसी विशेष सबनेट से संबंधित है।

What is IP Address Meaning?

एक internet protocol address, या IP Address, एक unique number है जो इंटरनेट से कनेक्ट होने वाले प्रत्येक डिवाइस को assigne किया जाता है। IP एड्रेस का उपयोग नेटवर्क पर devices की पहचान करने और उनके साथ communicate करने के लिए किया जाता है।

इसका उपयोग devices और networks के बीच data packets को रूट करने के लिए भी किया जाता है। निम्नलिखित कुछ अत्यधिक सामान्य आईपी पते हैं:

Private IP Address – कंप्यूटर या डिवाइस का अपना पता जो किसी अन्य कंप्यूटर या डिवाइस के साथ साझा नहीं किया जाता है। 

Public IP Address – वह संख्या जिसका उपयोग कोई भी इंटरनेट पर संचार करने के लिए किया जा सकता है।

Private IP Address क्या है? (What is a Private IP Address)

Private IP Address एक आईपी एड्रेस है जो केवल एक specific network के भीतर ही चलने योग्य होता है। Private IP Address internal networks के लिए उपयोग किए जाते हैं, जैसे कि business या घर में, और इसे इंटरनेट से एक्सेस नहीं किया जा सकता है। इंटरनेट से private ip एड्रेस का उपयोग करके किसी private network पर डिवाइस तक पहुंचने के लिए, आपको virtual private network (VPN) का उपयोग करना होगा।

What is a Public IP Address? (Public IP Address क्या है)

Public IP Address एक unique number है जो नेटवर्क पर प्रत्येक डिवाइस को assigned किया जाता है। यह संख्या devices को इंटरनेट पर एक दूसरे के साथ communicate करने की अनुमति देती है। Public IP एड्रेस उन उपकरणों के लिए आवश्यक हैं जिन्हें दुनिया में कहीं से भी एक्सेस करने की आवश्यकता है।

Google Account Delete और Recover कैसे करें? delete google account

The Purpose of an IP Address

नेटवर्क पर एक device के लिए एक unique identifier है। इसका उपयोग डिवाइस से और उसके लिए traffic को रूट करने के लिए किया जाता है। किसी डिवाइस को उसके network administrator द्वारा IP एड्रेस assigned किया जाता है। 

IP address कैसा दिखता है? एक IP एड्रेस 32-bit number (4 bytes) का होता है और इसे निम्नानुसार लिखा जाता है:  जैसे 192.168.0.106. यदि आप जानना चाहते हैं कि What is my IP Address, तो इस पृष्ठ के नीचे What is my IP Address पर जाएं।

How IP Addresses are Assigned?

इंटरनेट से जुड़े हर उपकरण का एक आईपी एड्रेस होता है। यह नंबर एक regional internet registry द्वारा असाइन किया गया है और प्रत्येक डिवाइस के लिए यह unique है। इन addresses को assigned करने का तरीका अलग-अलग होता है, लेकिन आमतौर पर, ये internet service providers को ब्लॉक में दिए जाते हैं। ये providers फिर उन्हें अपने ग्राहकों को सौंपते हैं।

limited number में addresses उपलब्ध हैं, इसलिए सभी को तुरंत एक नहीं मिल सकता है। इसके अलावा, कुछ पते विशेष उद्देश्यों के लिए आरक्षित हैं। IP एड्रेस कैसे वितरित किए जाते हैं Internet service providers अपने ग्राहकों को IP Addresses वितरित करते हैं। यह आमतौर पर एक Dynamic Host Configuration Protocol (DHCP) के माध्यम से किया जाता है। जो डिवाइस इंटरनेट से जुड़े हैं, वे स्वचालित रूप से अपने ISP (internet service provider) से आईपी एड्रेस का अनुरोध कर लेते हैं।

The Structure of an IP Address

एक नेटवर्क पर एक डिवाइस के लिए एक विशिष्ट पहचानकर्ता है। यह  periods द्वारा अलग की गई four numbers से बना है, उदाहरण के लिए 192.168.0.1। पहला नंबर network address है और आखिरी नंबर host address है। साथ में, यह दोनों नेटवर्क पर एक विशेष डिवाइस की पहचान करते हैं। 

अन्य दो नंबरों का उपयोग subnet mask बनाने के लिए किया जाता है।

What is my IP Address? (मेरा आईपी एड्रेस क्या है

आपका आईपी एड्रेस संख्याओं का एक unique समूह है जो आपके कंप्यूटर की ऑनलाइन पहचान करता है। इंटरनेट से जुड़ने वाले प्रत्येक उपकरण का अपना विशिष्ट IP एड्रेस होता है, जिसका उपयोग आपके स्थान और गतिविधियों को track करने के लिए किया जा सकता है। अधिकांश आईपी एड्रेस आपके internet service provider द्वारा assigned किए जाते हैं, लेकिन आप पैसे देकर एक static IP address पता भी खरीद सकते हैं।

How Do I Find Out my IP Address?

जब आप कंप्यूटर पर काम कर रहे होते हैं, तो आपका आईपी एड्रेस लगातार दूसरे कंप्यूटरों को भेजा जा रहा है। इसका उपयोग आपको पहचानने के तरीके के रूप में किया जाता है कि कोई संदेश या अनुरोध कहां से आ रहा है। यदि आप अपना आईपी पता जानना चाहते हैं, तो कुछ तरीके हैं जिनसे आप पता लगा सकते हैं।

अपने IP Address का पता लगाने का एक तरीका https://inhindiblog.com/tools/my-ip-address जैसी वेबसाइट पर जाना है। यह वेबसाइट आपको वह IP एड्रेस दिखाएगी जो आपके कंप्यूटर से जुड़ा है। 

अपने आईपी पते का पता लगाने का दूसरा तरीका है कि आप अपने कंप्यूटर पर Command Prompt खोलें और “ipconfig” टाइप करें। यह आपको आपके कंप्यूटर का IP पता भी दिखाएगा।

IP Addresses and Domain Names

Domain Names और IP Addresses इंटरनेट के बुनियादी ढांचे के महत्वपूर्ण टुकड़े हैं। Domain Names परिचित web address हैं जिनका उपयोग हम वेबसाइटों तक पहुँचने के लिए करते हैं।

IP Addresses इंटरनेट से जुड़े प्रत्येक उपकरण के लिए विशिष्ट पहचानकर्ता हैं। साथ में, Domain Names और IP एड्रेस ब्राउज़रों को वेबसाइटों का पता लगाने और लोड करने की अनुमति देते हैं। 

Domain Name System (DNS) एक ऐसी प्रणाली है जो इंटरनेट पर उपकरणों के लिए डोमेन नामों को संबंधित आईपी एड्रेस में अनुवादित करती है। डोमेन नाम परिचित वेब पते हैं जिनका उपयोग हम वेबसाइटों तक पहुँचने के लिए करते हैं। डोमेन नाम hierarchical तरीके से व्यवस्थित किए जाते हैं।

Dynamic and Static IP Addresses

जब आप इंटरनेट से कनेक्ट होते हैं, तो आपके कंप्यूटर को एक आईपी एड्रेस दिया जाता है। यह आईपी एड्रेस हर बार कनेक्ट होने पर वही रहता है, जब तक कि आप इसे बदलने के लिए विशिष्ट कदम नहीं उठाते। इसे static IP address कहा जाता है। एक static IP एड्रेसउपयोगी हो सकता है यदि आप अपने कंप्यूटर को remote location से एक्सेस करना चाहते हैं या अपने नेटवर्क पर किसी डिवाइस को permanent IP address असाइन करना चाहते हैं।

हालांकि, अगर आपको permanent आईपी की आवश्यकता नहीं है या यदि आप कई स्थानों से इंटरनेट से जुड़ रहे हैं, तो dynamic IP एड्रेस एक बेहतर विकल्प हो सकता है। हर बार जब आप इंटरनेट से कनेक्ट होते हैं तो dynamic IP address स्वचालित रूप से असाइन किया जाता है। यह सहायक हो सकता है यदि आप अपने identity और location छुपा कर रखना चाहते हैं या आप किसी ऐसी वेबसाइट को access करना चाहते हैं जो आपकी लोकेशन पर ban है।

IPv4 and IPv6 Protocols

IPv4 और IPv6 दो सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले  Internet Protocols हैं। IPv4 को पहली बार 1981 में पेश किया गया था, और अभी भी उपयोग में है। हालाँकि, IPv6 धीरे-धीरे IPv4 की जगह ले रहा है क्योंकि यह कई लाभ प्रदान करता है, जैसे कि एक larger address space।

IPv4 32-bit addresses का उपयोग करता है, जो 4.3 बिलियन addresses को अनुमति देता है। हालाँकि, इंटरनेट की विस्फोटक वृद्धि और IP ऐड्रेसेस की बढ़ती माँग के कारण, IPv4 के पते समाप्त हो रहे हैं। यही कारण है कि IPv6 विकसित किया गया था, क्योंकि यह 128-bit address का उपयोग करता है, जो लगभग अनंत संख्या में address प्रदान करता है।

IPv6 का एक अन्य लाभ यह है कि यह उन सुविधाओं का समर्थन करता है जो वर्तमान में IPv4 द्वारा समर्थित नहीं हैं, जैसे security और mobility। इसके अलावा, IPv6 networks को IPv4 networks की तुलना में manage करना आसान है।

IPv6 का एक मुख्य लाभ यह है, कि यह IPv4 की तुलना में बहुत अधिक संख्या में devices को संभाल सकता है। यह इंटरनेट से कनेक्ट होने वाले उपकरणों की बढ़ती संख्या के लिए इसे बेहतर अनुकूल बनाता है। 

IPv6 Address तीन भागों से बना होता है

पहला भाग prefix है। prefix एक specific network की पहचान करने के लिए उपयोग किए जाने वाले bits की संख्या है। उदाहरण के लिए, IPv4 32-bits addresses का उपयोग करता है, और IPv6 128-bits addresses का उपयोग करता है। 

दूसरा भाग network है, जो एक specific network की पहचान करता है। उदाहरण के लिए, IPv4 address 1.2.3.4 का उपयोग करता है, और IPv6 address 2001:db8:1::4 का उपयोग करता है।

अंतिम भाग host identifier है। IPv6 एक 64-bits host identifier का उपयोग करता है, जो इसे 340 ट्रिलियन (3.4 x 1038) से अधिक possible hosts IPv6 addresses और Subnetting IPv6 पतों को श्रेणियों में विभाजित करने में सक्षम बनाता है। IPv6 addresses का पहला भाग prefix है। पते का दूसरा भाग network है। पते का तीसरा और अंतिम भाग host identifier है। इनमें से प्रत्येक भाग को कई SUBNET में तोड़ा जा सकता है।

FAQ:-

IP एड्रेस में कितने अंक होते हैं?

एक आईपी एड्रेस चार नंबरों की एक श्रृंखला है जो इंटरनेट पर एक डिवाइस की पहचान करती है। प्रत्येक संख्या 0 से 255 तक हो सकती है, जिससे कुल 4,294,967,296 विभिन्न एड्रेस बनते हैं।

मेरा आईपी एड्रेस क्या है?

आईपी ऐड्रेस जानने के लिए अपने डिवाइस के वेब ब्राउज़र में जाएं और वहां पर टाइप करें what is my ip address  तो आपको नीचे सबसे पहले आपका आईपी एड्रेस नजर आ जाएगा।

मोबाइल का आईपी ऐड्रेस कैसे देखें?

अपने मोबाइल का आईपी ऐड्रेस देखने के लिए Setting क्लिक करने के बाद About Device और Status पर क्लिक करें। अब यहां पर आपको अपने मोबाइल का आईपी एड्रेस और मैक एड्रेस मिल जाएगा।

आईपी ऐड्रेस की full form क्या है?

आईपी ऐड्रेस की full form है, “Internet Protocol Address”.

Conclusion: What is an IP Address and What Does it Mean for You?

एक IP एड्रेस एक unique identifier है जो कंप्यूटर नेटवर्क में भाग लेने वाले उपकरणों को सौंपा गया है। IP Address का उपयोग उपकरणों के बीच data को रूट करने और नेटवर्क पर उपकरणों के बीच communication की अनुमति देने के लिए किया जाता है। 

अधिकांश घरेलू नेटवर्क DHCP, or Dynamic Host Configuration Protocol, का उपयोग करते हैं, जो नेटवर्क पर उपकरणों को स्वचालित रूप से IP Address assign करते हैं। यह उपयोगकर्ताओं को एक आईपी पते के साथ उपकरणों को मैन्युअल रूप से कॉन्फ़िगर करने की आवश्यकता को समाप्त करता है।

इस लेख में हमने आपको what is ip address, address meaning, ip address full form, types of ip address, what is internet protocol, how to find ip address के बारे में जानकारी दी है अगर आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताएं।

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी अवश्य शेयर करें। 

Kuljinder Singh जो कि इस website का owner है haryana में एक छोटे से विलेज gledwa से है जो kurukshetra का पास पड़ता है। लाइफ मे कुछ कर गुजरने कि चाहत लेकर 2020 मे reliance jio कि job छोड़कर Blogging को ही अपना carrier बनाया।  Read More Click Here

Leave a Comment